Real Life Horror Stories in Hindi

Horror Stories in Hindi. लोगों को डरावनी कहानियाँ पढ़ना बहुत पसंद है। और अगर कहानियाँ असल ज़िंदगी से जुड़ी हो तो कहानियाँ पढ़ने का मज़ा अलग ही होता है। इसीलए हम आपके लिए “Real Life Horror Stories in Hindi” लेकर आए है। पढिए इन कहानियों को।

Anneliese Michel The Real Emily Rose Horror Story in Hindi

दोस्तो यह कहानी Anneliese Michel नाम की एक लड़की की है । जिसे 6 अलग-अलग तरह की शैतानी शक्तियों ने अपने वश में कर लिया था और इन आत्माओं ने Anneliese Michel को इतनी यातनाएं दी जिसका आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते कि उस समय उस लड़की पर क्या बीती होगी?

Anneliese Michel का जन्म 21 सितंबर 1952 को जर्मन में हुआ था। यह लड़की बहुत ही खुश मिजाज और बहुत ही धार्मिक प्रवृत्ति की थी।

अपनी जिंदगी को बहुत ही आम तरीके से जीने वाली इस लड़की की जिंदगी में एक ऐसा मोड़ आया। जिसकी उसने कल्पना भी नहीं की थी। यह समय तब आया जब वह 16 साल की उम्र में अपने कॉलेज में बेहोश होकर गिर गई और जिस दिन वह बेहोश हुई थी उस रात वह अपने शरीर में एक बारी फीलिंग के साथ उठी थी।

Anneliese ने अगले दिन कॉलेज ना जाने का फैसला किया। हालांकि कुछ दिनों बाद सबकुछ सामान्य हो गया। लेकिन इस घटना के 1 साल बाद ऐसी ही एक घटना फिर से हुई।

हालांकि डॉक्टर के साथ-साथ एक न्यूरोलॉजिस्ट का भी कहना था। कि Anneliese के साथ कुछ भी समस्या नहीं है। फरवरी 1970 को Anneliese को टीवी की बीमारी ने पकड़ लिया। जिसके चलते उसे हॉस्पिटल में भर्ती किया गया। हॉस्पिटल में रहने के दौरान उसके साथ तीसरी बार ऐसी घटना हुई। जिसमें वह बेहोश हो गई अब उसके साथ चीजें कुछ ज्यादा ही भयानक होती जा रही थी।

उससे रंग दिखाई दे रहे थे उसे कई तरह की आवाज सुनाई दे रही थी और उसे आत्माएं भी दिखाई दे रही थी और अजीबोगरीब हरकतें करने लगी। डॉक्टरों ने इसे मिर्गी का दौरा समझा और उसका इलाज किया गया और अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। लेकिन उसकी हालत फिर भी ठीक नहीं थी। मानसिक हालत दूर ना होने के बाद भी Anneliese ने अपनी पढ़ाई पूरी की वह एक टीचर बनना चाहती थी।

लेकिन उसकी मानसिक स्थिती बिगड़ती जा रही थी। 1973 में Anneliese को प्रार्थना के दौरान आत्माएँ दिखने लगी। अब उसे यकीन हो चुका था कि उसे शैतानी शक्तियों ने अपने कब्जे में कर लिया है। Anneliese बहुत ही बेबस हालत मे थी। डॉक्टर उसकी किसी भी तरह से मदद नहीं कर पा रहे थे। थक हारकर Anneliese के माता-पिता ने उसे पादरियों के पास लेकर गए।

पादरियों ने देखते ही कहा कि इस लड़की के अंदर छह अलग-अलग तरह की शैतानी शक्तियों ने कब्जा कर रखा है। कहा जाता है कि Anneliese की हालत इतनी ज्यादा बिगड़ चुकी थी। कि वह फ्लोर से उठाकर अपने ही मूत्र को पी जाया करती थी। कोयला और कीड़े खाने लगी थी और कई बार अपने कपड़ों को फाड़ दिया करती थी। इस दौरान Anneliese धार्मिक चीजें क्रॉस से भी दूर रहने लगी थी

पादरियों ने Anneliese पर भूत भगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी। इस प्रक्रिया के दौरान Anneliese को चैन से बांधकर रखा जाता था। इतना ही नहीं उसका खाना पीना तक बंद कर दिया गया था। इन सब वजहों के चलते उसकी तबीयत लगातार बिगड़ती जा रही थी और 1976 में आखिरकार मिशेल की मौत हो गई

रिपोर्ट में सामने आया कि मिशेल के दांत टूट चुके थे और पूरे शरीर में चोटों के निशान थे। पादरियों के मुताबिक मौत से पहले उन्होंने हाथ और पैर में वैसे ही निशान देखे थे। जैसे क्रॉस में लटकने के दौरान जीसस हाथों में उभरते थे।

पादरियों के मुताबिक यह Anneliese Michel की आत्मा मुक्त हो जाने की निशानी थी। जबकि कोर्ट ने इसे हत्या का मामला करार किया। कोर्ट ने 1978 में मिशेल के माता पिता और उन पादरियों को हत्या के जुर्म में जेल की सजा सुनाई।

पढ़े – Kuchisake Onna Real Urbal Horror Legend in Hindi

एनाबेल सबसे भूतिया गुड़िया की डरावनी कहानी

दोस्तों दुनिया में कुछ ऐसी गुड़िया है जिस पर दावा किया गया है कि इन गाड़ियों पर बुरी शक्तियों का साया है। इन गुड़ियों ने लोगों की जान भी लेने की कोशिश की है। तो आइए इस पोस्ट में हम आपको दुनिया के सबसे श्रापित गुड़िया से रूबरू कराते हैं

इस भूतिया गुड़िया की कहानी सन 1970 की है। अमेरिका में डोना नाम की एक छोटी लड़की थी। डोना की मां ने अपनी बेटी डोना को उसके जन्मदिन पर यह गुड़िया उपहार में दिया। शुरुआत में उस गुड़िया ने कोई भी हरकत नही की। वह गुड़िया सिर्फ एक खिलौना थी। लेकिन ऐसा सिर्फ कुछ समय तक था। धीरे-धीरे वह गुड़िया हाथ हिलाने लगी। अगर उसे रात को कुर्सी पर रखा जाता तो वह सुबह जमीन पर पड़ी मिलती थी।

कभी-कभी तो गुड़िया पर खून के धब्बे भी लगे हुए मिलते थे। इसके बाद उनकी मां ने लोरेन वारेन को बुलाया और गुड़िया को देखते ही बताया कि किसी बेहद शक्तिशाली आत्मा ने इस गुड़िया पर कब्जा कर रखा है। इस गुड़िया को तंत्र-मंत्र के सहारे से बड़ी मुश्किल से काबू में किया गया इसके बाद से उसे म्यूजियम में रखा गया है और इसे हाथ ना लगाने की भी चेतावनी दी गई है।

मारिया की भुतीया कहानी (Veronica Real Life Horror Story in Hindi)

मारिया अपने माता-पिता के साथ अपने घर में रहा करती थी। मारिया के तीन छोटे भाई बहन भी थे। मारिया और उसके तीनों छोटे भाई-बहन एक साथ स्कूल जाया करते। मारिया का स्कूल मारिया के घर से थोड़ी दूर पर था।

सूर्य ग्रहण के दिन रोज की तरह मारिया अपने छोटे भाई बहन के साथ स्कूल पहुंची। जिसके बाद उसके अध्यापक ने मारिया और उसकी क्लास को सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ बातें बताई। क्लास समाप्त होने के बाद सभी बच्चों को स्कूल की छत पर सूर्य ग्रहण दिखाने के लिए ले गए। परंतु इसमें मारिया और उसके दोनों दोस्त उनके साथ नहीं गए।

वे तीनों स्कूल के नीचे मौजुद एक बन्द कमरे में गए और अपने बैग से औइजा(Ouija) बोर्ड निकालकर तीनों के बीच में रखकर बैठ गए। जिसके बाद उन्होंने अपनी उंगली उस बोर्ड पर रख दिया और अपनी आंखें बंद करके मारिया के मरे हुए बॉयफ्रेंड से सम्पर्क करने की कोशिश करने लगे।

परंतु उस बोर्ड के नियमों का सही से पालन ना करने की वजह से बोर्ड टूट जाता है और उस कमरे में धुआ भर गया। अचानक से सारा धुआ मारिया के मुंह से होते हुए उसके शरीर में घुस गया। जिसके बाद मारिया का हालत खराब हो हो गया और उसके मुंह से झाग निकलने लगा। यह सब देखकर उसके दोस्त बहुत डर जाते है।

जैसे तैसे वे सब घर पहुच जाते है लेकिन उसके बाद मारिया को हर जगह किसी व्यक्ति का काला साया नजर आता था। मारिया अजीबोगरीब हरकतें करने लगी थी। वह अपने भाई-बहन पर चिल्लाती रहती थी और उन्हें बेवजह मारने लगती। रोज रात को मारिया के माता-पिता को मारिया के कमरे से कुछ अजीबोगरीब आवाजें सुनाई देती थी और जब मारिया के माता-पिता रूम में जाकर देखते तो उन्हें कुछ भी नजर नहीं आता। बस मारिया अपने कमरे में शांति से सोती हुई दिखाई देती।

इसके कुछ ही दिनों बाद मारिया का स्वभाव और भी ज्यादा भयानक हो गया। इसके बाद मारिया के माता-पिता उसे अस्पताल में ले गए परंतु कोई भी डॉक्टर यह नही बता पा रहा था की मारिया को क्या हुआ है। मारिया ने खाना पीना भी छोड़ दिया था और किसी से भी बात भी नहीं करती थी।

जब डॉक्टर ने मारिया से पूछा कि उसके साथ क्या हुआ था। इस पर मारिया बस हंसती और कुछ नहीं बोलती थी। इसके कुछ ही दिनों बाद मारिया का हालत बहुत ज्यादा खराब हो गया। जिसकी वजह से उसे हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया जहां 14 जुलाई 1991 में उसकी मौत हो गई। मौत की वजह किसी को पता नहीं। पोस्टमार्टम से भी उसकी मौत की वजह सामने नही आया।

Real Life Horror Stories in Hindi
Real Life Horror Stories in Hindi

रॉबर्ट काले जादू से बोलने वाला खिलौना

रॉबर्ट के बारे में लोग कहते हैं कि वह कई दुर्घटना में शामिल था। उसने बेजान होते हुए भी कई लोगों को नुकसान पहुंचाया। लोगों का मानना था कि उसमे कई बुरी आत्मा वास करती है। यह गुड़िया रॉबर्ट यूजीन औटो नाम के एक 6 साल के लड़के की थी।

उसे यह गुड़िया उनकी नौकरानी ने दिया था। लोगों का मानना था कि इस गुड़िया पर उसी नौकरानी ने काला जादू किया था। ऐसा इसलिए क्योंकि जब से रॉबर्ट के पास यह गुड़िया थी उनके माता-पिता ने नोटिस किया कि रॉबर्ट हमेशा ही अकेले में उस गुड़िया से बात किया करता था। उनके माता पिता ने रॉबर्ट से पूछा तो उसने बताया कि यह गुड़िया उससे बातें करती है।

उसने यह भी बताया कि इस गुड़िया ने अपना नाम खुद रॉबर्ट रखा है और मेरा नाम जिन रखने को कहा है। फिर उसके बाद से ही उन लोगों के साथ अजीबोगरीब घटनाएं होने लगी। इन सब से परेशान होकर रोबर्ट और उसके परिवार कुछ सालों बाद उस घर को छोड़कर चल दिए।

उस मकान को छोड़ने के बाद उसे किसी और ने खरीदा तो उन्हें भी वह गुड़िया साथ में मिली। मकान के नए मालिक की बेटी का दावा था कि उस पर गुड़िया ने हमला किया और उसे मारने की कोशिश की। 1994 में उस गुड़िया को एक म्यूजियम को दे दिया गया। म्यूजियम में उसे हांटेड डॉल का नाम दिया गया।

ओकीको जिसके बाल बढ़ते हैं

जापान की रहने वाली 17 साल की एक लड़की सुजुकी ने इस डॉल को खरीदा था। उसने यह डॉल अपनी 2 साल की छोटी बहन ओकीको के लिए खरीदी। 1 साल बाद ठंड की वजह से उसकी बहन ओकीको की मौत हो गई। परिवार के सदस्य बताते हैं ओकीको अपनी इस डॉल से बहुत प्यार करती थी इसलिए उसकी आत्मा इस डॉल में बसती है। परिवार के दूसरे जगह चले जाने के कारण डॉल को किसी मंदिर में रख दिया गया। कहा जाता है कि डॉल के बाल खुद ही बढ़ते हैं। हालांकि नियमित रूप से इसके बाल कटवाए भी जाते हैं लेकिन यह बढ़ते रहते हैं।

एलिसा लेम की भुतीया कहानी

एक दिन सेसिल होटल के रूम से एक कस्टमर ने स्टाफ को कंप्लेन किया कि उसके यहां अजीब से रंग का पानी आ रहा है और उस पानी से अजीबोगरीब बदबू आ रही थी। ऐसे में होटल के स्टाफ ने पानी की जांच की तो उन्होंने भी देखा कि वहां का पानी बहुत ही अजीबोगरीब था। ऐसे में होटल के स्टाफ ने होटल पर रखी हुई टंकी की जांच करने का सोचा। वह होटल की छत पर गए और वहां की टंकी को खोल कर देखने लगे। टंकी को खोलकर देखते ही वह सारे के सारे दंग रह गए। उन्हें वहां उस टंकी के अंदर एक लड़की की लाश मिली। वह लाश एलिसा लेम की थी।

एलिसा लेम 26 जनवरी, 2013 को कनाडा से लॉस एंजेल्स घूमने आई थी। उसे उस होटल में अन्य दो लड़कियों के साथ ठहराया गया था। लेकिन कुछ दिनों बाद वे दोनों लड़कियां शिकायत करने लगी की एलिसा लेम की हरकत अजीबोगरीब है। इस वजह से उसे दूसरे रुम में शिफ्ट कर दिया गया था।

लॉस एंजिल्स की पुलिस ने इसे एक आत्महत्या की घटना बताई। लेकिन अगर इसके बारे में अच्छे से जांच की जाए तो इसे आत्महत्या कह पाना मुश्किल होगा क्योंकि उस होटल की छत पर कोई भी नहीं जा सकता था। छत के दरवाजे बंद थे और दरवाजों में ताला लगा हुआ था जिसे खोलकर कोई भी नहीं जा सकता था। ऐसे में एलिसा लेम उस टंकी तक कैसे पहुंचे? उसके पास तो वहां की चाबी भी नहीं थी। ऐसे में वह छत पर कैसे गई यह कोई नहीं बता सकता।

लेकिन उस होटल के सीसीटीवी में एक ऐसा वीडियो मिला जिसे देखकर लोग डर जाते हैं। सीसीटीवी में देखा गया था कि अलीशा लिफ्ट के सारे बटन को दबा रही थी। देखने में ऐसा लग रहा था कि वह हर एक फ्लोर पर रुकना चाहती है। फिर अचानक से वह लिफ्ट एक जगह पर रुक जाता है और एलिसा लेम लिफ्ट के दरवाजे में खड़े होकर किसी से बात करती हुई दिखाई दे रही होती है। लेकिन उसके सामने कोई भी खड़ा नहीं था। यह देखने में एक सच्ची भूतिया घटना लगती है लेकिन आज तक कोई पता नहीं लगा पाया की की मौत कैसे हुई थी।

कटजा एक श्रापीत गुड़िया

कटजा एक श्रापीत गुड़िया है। इस डॉल का नाम कटजा 1730 मे रुस मे पडा था। कहा जाता है कि एक औरत गर्भवती थी और उसके परिवार वाले चाहते थे कि एक लड़का पैदा हो। लेकिन उसकी एक लड़की पैदा हुई। पैदा होने के बाद उस महिला के परिवार वालों ने उस पैदा हूई लड़की को जिंदा जला दिया। ऐसा होने के बाद लड़की की मां ने उसकी राख से एक डॉल बनाई। उसके बाद सभी पीढियों ने उस डॉल की रक्षा की क्योंकि उनका मानना था की यह गुड़िया श्रापित है।

प्यूपा असली बालों वाली गुड़िया

प्यूपा नाम की इस डॉल के बाल असली है। ऐसा कहा जाता है कि प्यूपा की मालकिन को प्यूपा तब मिली थी जब वह एक बच्ची थी। साल 1920 से लेकर 2005 तक प्यूपा उनके साथ ही रही। प्यूपा की मालकिन के मौत के बाद उसके घर वालों ने इस डॉल में बड़ी ही अजीबोगरीब चीजों को नोटिस किया। घर के शोकेस में रखी इस डॉल के पास अगर कोई जाता तो वहां से गिलासों के खटखटाने की आवाज सुनाई देती। ऐसा लगता कि अपने हाथों और पैरों से गिलासों को तोड़ने की कोशिश कर रही हो और वहां से बाहर निकलना चाहती हो।

Recent Posts

Leave a Comment