10 Detective Stories In Hindi (Written & Video)

Detective Stories In Hindi – यह आपको बच्चों की जासूसों की कहानी पढ़ने का मोका मिलेगा जो आपके अन्दर के रोमांच को बरकरार रखेगा।

तिजोरी की चोरी – Detective Stories In Hindi

माइक बहुत ही अमीर आदमी था। उसके घर पर बहुत सारे नौकर और एक नौकरानी थी। माइक अपने घर में रहता और सुबह-सुबह अपने काम के लिए निकल जाता। एक दिन जब वह काम से वापस लौटा उसने देखा कि उसकी तिजोरी खाली थी। तिजोरी के अंदर के सारे पैसे गायब थे।

तिजोरी को खाली देखकर माइक बहुत ही ज्यादा परेशान हो गया। उसने सोचा कि तिजोरी का पासवर्ड सिर्फ वह ही जानता था तो फिर कोई और उस तिजोरी को कैसे खोल सकता है। अब इस बात का पता लगाने के लिए उसने डिटेक्टिव डेन को बुलाया। डिटेक्टिव के साथ उसका साथी विलियम भी था। डिटेक्टिव ने उस तिजोरी की बहुत अच्छे से जांच की। जांच के दौरान उन्हें एक नाखून का टुकड़ा मिला वह नाखून लंबा था जिससे उनका शक सबसे पहले नौकरानी पर गया। उन दोनों ने नौकरानी को बुलाया और उनसे बोला, “तुम्हारा यह नाखून इस तिजोरी के पास क्या कर रहा है?”

“मुझे माफ कर दो मालिक। मैं नहीं जानती कि यह यहां कैसे पहुंचा। लेकिन मैंने कोई भी चोरी नहीं की है।” नौकरानी ने हाथ जोड़कर उन दोनों से कहा।

अब उन दोनों के सामने एक संदिग्ध था। उन्हें पता लगाना था कि वह चोरी उस नौकरानी ने की है या नहीं। उनके पास एक सबूत था लेकिन फिर भी वे दोनों पक्के नहीं थे चोरी नौकरानी ने की है। ऐसे में डिटेक्टिव ने विलियम को और भी अच्छे से जांच करने को कहा।

जांच करने के बाद विलियम को एक और सबूत मिला। उसने डिटेक्टिव से कहा, “मुझे एक और सबूत मिला है और मैं जान चुका हूं कि चोर कौन है। मैं दावे से कह सकता हूं कि चोरी किसने की है।”

इसके बाद घर के सारे नौकर और नौकरानी को कमरे में बुलवाया गया। सबके कमरे में आ जाने के बाद डिटेक्टिव ने माइक से बोला, “माइक अब तुम बताओ कि असली चोर कौन है?”

“जी हां मैं बताता हूं।” विलियम ने कहा, “इस घर में एक ही ऐसा नौकर है जो सिर्फ बर्तन धोता है और उसका नाम है जॉन। इस तिजोरी में भी साबुन का स्मेल आ रहा है जो किचन में बर्तन को धोने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसीलिए चोर जॉन है।”

यह सुनते ही जॉन वहां से भागने लगा था लेकिन बाकी नौकरों ने उसे पकड़ लिया। जॉन सबसे कहने लगा, “मुझे माफ कर दीजिए मैं चोरी नहीं करना चाहता था। यह मेरी मजबूरी थी।

इसके बाद डिटेक्टिव ने उससे पूछा, “तुमने चोरी कैसे की तुम तो पासवर्ड नहीं जानते थे?”

“एक दिन में कमरे में चुपके से घुसा और बिस्तर के नीचे छुप गया। जब मालिक तिजोरी का पासवर्ड डाल रहे थे तब मैं वहां छुपकर पासवर्ड देखने लगा था। मैंने वह नाखून तिजोरी के पास रखा ताकि पूरा शक उस नौकरानी पर चला जाए। इस तरह से मैंने चोरी की थी”

मौत या मर्डर

नन्हें जासूस – Detective Stories In Hindi

यह कहानी है दो भाई बहनों की जिनमें से एक का नाम था रोहन और दूसरी का नाम था कविता। दोनों बहुत ही अच्छे बच्चे थे। दोनों को अपनी खोई हुई चीजें को खोजना बहुत पसंद था और वह उसे एक जासूस की तरह खोजा करते थे। उन दोनों पास एक मैग्नीफाइंग ग्लास था और दोनो के पास एक दूरबीन भी था। उस दूरबीन से दोनों दूर की चीज पास में देखा करते थे।

उन दोनों को खेलने कूदने का भी बड़ा शौक था और खासकर वह अपनी गेंद के साथ खेला करते थे। उसे वह बड़े आनंद से एक दूसरे को फेंक कर दिया करते थे।

उनके घर में एक कुत्ता भी था जिसका नाम जंबो था। जो बहुत ही प्यारा और बहुत ही शरारती था लेकिन सबका चहेता था। दोनों के दोनों उसे पसंद करते थे। उस गेंद के साथ तीनों मिलकर खेला करते थे।

एक दिन सुबह उठकर रोहन और कविता ने गेंद के साथ खेलने का सोचा। दोनों ने उस गेंद को जगह-जगह खोजना चालू किया। उन्होंने हर एक जगह खोज डाली लेकिन उन्हें वह गेंद कहीं भी नहीं मिली। अब वे सोचने लगे कि आखिर वह गेंद गई कहाँ?

उन्होंने उस गेंद को वापस वहां जाकर देखा जहाँ उन्होंने उसे रखा था। लेकिन, वह वहां नहीं था। ऐसा सिर्फ पहली बार ही नहीं हुआ था। घर की बहुत सी चीज़े गायब हो रही थी। कभी कुछ चीज़े किचन से, कुछ चीज़े माँ की और बाबा की भी ज़रुरत की चीज़े गायब हो रही थी।

दोनों को समझ नहीं आ रहा था की आखिर घर में हो क्या रहा। घर के अन्दर यह एक रहस्य बन गया था।

अब ऐसे में बारी थी खोए हुए चीज़ो को खोजने की अब वह दोनों बनने वाले थे जासूस। एक ऐसे जासूस जो हर एक बात का पता लगा लेते। दोनों जल्द ही इस राज़ से पर्दा हटाने की आखिर घर मे हो क्या रहा है।

दोनों ने सर पर टोपी लगाया, दोनों ने कंधे में अपने दूरबीन को लटकाया और हाथ में मैग्नीफाइंग ग्लास लेकर उसे खोजने लगे।

सबसे पहले उन दोनों ने उस जगह को बारीकी से ढूंढा जहां पर गेंद रखी हुई थी। उन्होनें उस जगह की बड़ी बारीकी से जाँच की। जाँच करने के बाद उन्हें एक सबूत मिला। वहां उन्हें एक छोटा सा काला बाल मिला। यह उनके लिए एक सबूत की तरह था जिसका इस्तेमाल करके वह अपनी खोई हुई गेंद को पाना चाहते थे।

रोहन ने उस काले बाल को अपनी बहन को दिखाया और कहा, ” कविता, यह देखो हमें क्या मिला?”

कविता बोली, “क्या मिला?”

“यह देखो यह छोटा काला बाल। अब सवाल यह उठता है कि यह काला बाल किसका हो सकता है?” रोहन ने कविता से पूछा।

कविता और रोहन दोनों मिलकर सोचने लगे कि आखिर यह बाल किसका हो सकता है। सबसे पहले उन्होंने सोचा कि घर में तो सबके बाल काले हैं पापा के भी, मम्मी के भी, और हमारे भी। वही साथ-साथ हमारे कुत्ते के भी बाल काले हैं।

उन दोनों ने सोचा मम्मी-पापा तो वह गेंद नहीं ले सकते क्योंकि उसे लेकर वे दोनों क्या करते? तो ऐसे में उन दोनों का शक सिर्फ और सिर्फ उनके कुत्ते पर गया।

अब दोनों के दोनों अपने कुत्ते के ऊपर नज़र रखने लगे और उसे बारीकी से देखने लगे। वे दोनों उसकी हरकतों पर नज़र रखते। दोनों जानना चाहते थे कि आखिर वह क्या कर रहा है?

दोनों जंबो की हर एक हरकतों पर नजर रखते और वह जहां भी जाता उसके पीछे-पीछे छुप कर उसे देखते रहते।

दिन निकलता गया लेकिन उन्हें अभी तक गेंद नहीं मिली। लेकिन, अभी भी उनका शक सिर्फ और सिर्फ उनके कुत्ते पर ही बना हुआ था।

एक दिन उन दोनों ने देखा कि उनका वह कुत्ता एक पेड़ के पीछे जाकर गड्ढा खोद रहा था। जंबो की इस हरकत को देखकर वे दोनों हैरान हो गए। फिर सोचने लगे कि, आखिर वह कर क्या रहा है?

इन दोनों ने उसकी यह हरकत को चुपचाप देखा और जंबो के वहां से जाने तक उसे देखते रहे। फिर कुछ देर बाद कुत्ता वहां से चला गया फिर दोनों ने मिलकर निर्णय किया कि अब हम वहां जाकर देखते हैं कि आखिर वहां क्या है?

अब दोनों उस पेड़ के नीचे गए और उस जगह को अच्छे से देखा। वहां उन दोनों ने गड्ढा खोदा और उस गड्ढे के अंदर उन्हें जो दिखा उसे देखकर वह हैरान हो गए।

उस जगह पर घर के ऐसे बहुत सारे सामान थे जिसे कुत्ते ने लाकर वहां छुपाया था और साथ ही साथ वहां पर उन दोनों की गेंद भी थी।

उन सारे सामान को वे दोनों घर के अंदर ले गए और मां-पापा को दिखाया और बताया कि हमारा जंबो कितना शैतान है जो घर के सामान को जगह-जगह छुपाया करता है।

जंबो घर के अन्दर ये सब देख कर उछल कूद करने लगा।

इस तरह से दोनों ने अपनी खोई हुई गेंद को वापस खोज निकाला और कहलाए छोटे जासूस।

अब आप हमें बताए की आपको यह जासूसी की कहानी कैसी लगी ओर हमें यह भी बताए की अगर आप उनकी जगह होते तो आपका शक सबसे पहले किसके ऊपर जाता।

कातिल कौन

एक लाश – Detective Stories In Hindi

एक दिन अचानक सिटी सेंटर मॉल की सीढ़ियों पर वहां के एक सिक्योरिटी गार्ड को एक लाश मिली। उस लाश को देखकर वह सिक्योरिटी गार्ड बहुत ही ज्यादा डर गया था। डर कर उसने तुरंत पुलिस को कॉल किया। वह बहुत डरा हुआ था और कॉल में ठीक से बात भी नहीं कर पा रहा था। उसने पुलिस से बोला, ” हेल्लो, आप यहां जल्दी आइए। यहां किसी का खून हुआ है। मेरे सामने एक लाश पढ़ी हुई है।” यह कहकर उसे तुरंत फोन काट दिया और पास में रखे हुए एक चेयर पर बैठ गया।

कुछ देर बाद वहां दो पुलिस आई और उन्होंने उस लाश की छानबीन की। सबसे पहले उन्होंने जानने की कोशिश की कि वह व्यक्ति कौन था जिसकी लाश वहाँ पड़ी थी?

उस व्यक्ति की शर्ट से एक आईडी कार्ड मिला जिस पर उसका नाम लिखा हुआ था। उसका नाम ‘माइक विलियम्स’ था जो कि एक कंपनी का कर्मचारी था। इसके बाद पुलिस वालों ने माइक की कंपनी को फोन लगाया और उसके परिवार वालों के डिटेल्स लिए।

अब उन्हें जानना था कि माइक को किसने मारा है और यहां पर उसे कौन छोड़कर गया है? उन्होंने सबसे पहले सीसीटीवी को चेक करने की कोशिश की। वे सिक्योरिटी रूम में गए और वहां उन्होंने सीसीटीवी में देखा कि एक लंबे बालों वाला आदमी चेहरे को पूरी तरह से ढक कर माई की लाश को खींचता हुआ सीढ़ी पर छोड़ गया। अब बस उनके पास यही सबूत था कि माइक को मारने वाला व्यक्ति लंबे बाल वाला है।

यह सब जान लेने के बाद पुलिस वाले माइक के घर गए माइक के घर गए। घर जाकर उन्होंने माइक के परिवार वालों को दुखद खबर सुनाई। उसके परिवार वाले माइक की मौत के बारे में सुनकर बेहद दुखी थे।

इसके बाद पुलिस वालों ने माइक के परिवार वालों से पूछा कि वे किसी लंबे बाल वाले व्यक्ति को जानते हैं या नहीं। अच्छी तरह से पूछताछ करने के बाद उन्हें ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं मिला जो लंबे बालों वाला हो। ऐसे में पुलिस वालों ने माइक के ऑफिस जाने के बारे में सोचा। फिर वे माइक के ऑफिस गए। वहां भी उन्हें कोई ऐसे व्यक्ति की जानकारी नहीं मिली जिसके बाल लंबे थे। अब उन्होंने माईक के सारे दोस्तों के बारे में जानने की कोशिश की। उन्होंने मायक के कलीग्स, उसके दोस्तों, रिश्तेदारों आदि सबसे पूछा लेकिन उन्हें कुछ भी सुराग या जानकारी नहीं मिली।

अब वे दुविधा में पड़ गए थे कि आगे की छानबीन कैसे करेंगे? ऐसे में उन्होंने सोचा कि वे लोग जगह-जगह ‘warning notice’ लगाएँगे। उन्होंने जगह-जगह नोटिस लगा दिया। नोटिस लगाने के बाद दिन गुजरते गए लेकिन कोई खबर नहीं मिली।

कुछ दिनों बाद अचानक उन पुलिस वालों को एक फोन आया। उस फोन में जो व्यक्ति था उसने पुलिस वाले को बताया की वह एक ऐसे व्यक्ति को जानता है जिसका हुलिया नोटिस मैं बताया गया है। ऐसे में वे दोनों पुलिस उठकर तुरंत उस व्यक्ति के पास चले गए।

वह व्यक्ति एक नाई था जो लोगों के बाल काटा करता था। जैसे ही वे पुलिस उसके पास पहुंचे तब उस नाई ने बताया, “मैं एक नाई हू और लोगों के बाल काटता हूं। एक दिन मेरे पास एक व्यक्ति आया था जो यही पास में रहता है। वह बहुत डरा हुआ था और उसने मुझसे कहा कि मैं उसके बाल काट दूं। उसे अपने बालों से बहुत प्यार था। मै जब कभी भी उसे बाल छोटे करने को कहता तो वह तुरंत गुस्सा हो जाता था। लेकिन उस दिन वह आकर बाल काटने बोला। मैने उसके बाल काट काटकर छोटे कर दिए। उसने मुझे ज्यादा पैसे भी दिए। यह सब देख कर मुझे थोड़ा सा शक हुआ।” फिर कल मैं जब बाजार की ओर गया तो आपके द्वारा लगाया हुआ नोटिस देखा जिसे देखकर मैं समझ गया था कि कुछ तो कुछ तो गड़बड़ है। इसीलिए मैंने आपको यहां बुलाया है।”

यह सब कह लेने के बाद नाई ने उस लड़के का पता बताया। पुलिस वाले उसके घर गए और उसे पकड़ लिए। अच्छे से पूछताछ करने के बाद उस लड़के ने सब कुछ सच बता दिया। पुलिस ने उससे पूछा कि उसने माइक की हत्या क्यों की थी? तब उसने बताया कि माइक उसका एक पहचान का दोस्त था जिससे उसने 15 लाख रुपए लिए थे। माइक जब उसके पास अपने पैसे वापस लेने गया। वह माइक को पैसे वापस लौटना नही चाहता था। तब वह उससे लड़ाई कर बैठा और उसे मार दिया। माइक को मारने के बाद उसकी लाश को मौल की सीढ़ियों पर छोड़ आया। अब वह हत्यारा सालों साल तक जेल में सडेगा।

द घोस्ट मैन

डिटेक्टिव ऑस्कर – Detective Stories In Hindi

रोबर्ट जाना-माना रियल एस्टेट बिजनेस का मालिक था। वह लोगों के लिए बड़े-बड़े घर बनाता और उसे कभी-कभी बड़ी-बड़ी बिल्डिंग बनाने का भी काम मिला करता था। वह अपने इलाके में बहुत ही प्रचलित था उसके पास बेहद धन था। रॉबर्ट का एक दोस्त भी था जिसका नाम जॉन था। दोनों मिलकर एक साथ काम किया करते थे। दोनों ने एक साथ काम शुरु किया था। लेकिन रॉबर्ट और जॉन में से रॉबर्ट के पास सबसे ज्यादा पैसे थे।

एक दिन रॉबर्ट को एक फोन आया जिसमें उसे मारने की धमकी दी गई। इस फोन को रॉबर्ट ने एक छोटा सा मजाक समझा और उसे हल्के में ले कर जाने दिया। यह बात उसने सिर्फ अपने बेटे विलियम को बताई थी।

3 दिन बाद रॉबर्ट की मृत्यु हो गई। पोस्टमार्टम में बताया गया कि रोबोट की मृत्यु हार्ट अटैक से हुई है लेकिन रॉबर्ट के बेटे विलियम को इस बात पर यकीन नहीं था कि उसके पिता की मृत्यु हार्ट अटैक से हुई है। क्योंकि उसके पिताजी के साथ धमकी भरा फोन आया था। इस वजह से वह असल सच जानना चाहता था। सच जानने के लिए उसने एक डिटेक्टिव की सहायता ली। डिटेक्टिव का नाम ऑस्कर था। विलियम डिटेक्टिव ऑस्कर के पास गया और उसे सारी बात बताएं। अब डिटेक्टिव ऑस्कर अपने असिस्टेंट के साथ रॉबर्ट के घर गया और उसके कमरे की छानबीन की।

रॉबर्ट की असिस्टेंट ने उससे कहा, “सर कमरा तो अंदर से बंद था और इनका कमरा तीसरी मंजिल पर है। तो यहां कोई और कैसे आ सकता है? मुझे तो इनकी मृत्यु नेचुरल लग रही है”

अपने असिस्टेंट की बात सुनते ही रोबोट ने उससे कहा, “हमें जैसा दिखता है वैसा होता नहीं।”

रॉबर्ट ने कमरे की अच्छे से छानबीन की वह एक-एक बारीकियों को ध्यान से देख रहा था। जब वह खिड़की के पास जाकर छानबीन कर रहा था तभी उसे एक अजीब सी स्मेल आई। डिटेक्टिव ऑस्कर ने विलियम से पूछा, “यह स्मेल किस चीज की आ रही है?”

तब विलियम ने उसे बताया, “कुछ दिनों पहले घर के बाहर पेंटिंग का काम हो रहा था। यह पेंट का स्मेल है जो बाहर से आ रहा है।”

तब ऑस्कर ने खिड़की के बाहर झाककर देखा तो वहां रस्सियों से बनी सीढ़ियां लगी हुई थी। ऑस्कर ने विलियम से कहा, “यहां कितने पेंटर काम कर रहे थे?”

“यहां तीन पेंटर काम कर रहे थे जो पिछले 7 दिनों से यहां काम कर रहे हैं।” विलियम ने ऑस्कर को बताया। डिटेक्टिव ऑस्कर को इस केस के सिलसिले में नई दिशा मिल चुकी थी अब उसे पता चल चुका था कि उसे क्या करना है?

डिटेक्टिव ऑस्कर ने अपने असिस्टेंट से कहा, “जाओ जाकर उन तीनों पेंटर की जानकारी लेकर आओ।”

असिस्टेंट नहीं उन पेंटर की छानबीन की और उनका पूरा बायोडाटा इकट्ठा किया। उसने तीनों पेंटरो के बारे में अच्छे से जाना तब उसे एक पेंटर पर शक हुआ जिसका नाम लियो था। ऑस्कर लियो के घर गया। घर जाकर उसने देखा कि वहां कोई भी नहीं था। लियो वहां से जा चुका था। ऐसे में उसके असिस्टेंट ने डिटेक्टिव ऑस्कर से पूछा, “सर आपको क्यों लगता है कि यह इस पेंटर का काम है?”

“अगर तुम तीनों पेंटरो की जानकारी ध्यान से पढ़ती तो तुम्हें पता चल जाता। बाकी के दो पेंटर पिछले 10 सालों से पेंटिंग का काम कर रहे हैं। लेकिन लियो एक ऐसा पेंटर है जिसने 2 महीने पहले ही पेंटिंग का काम शुरू किया। जब मैंने लियो के बारे में और अच्छे से छानबीन की तो मुझे पता चला कि वह एक जाना-माना अपराधी है जो पैसे लेकर जुर्म किया करता है। उसने भी किसी से पैसे लेकर रॉबर्ट की हत्या की है। यह मर्डर बहुत अच्छे से प्लेन की गई है। अब बस सबसे पहले हमें लियो को ढूंढ कर उसे पकड़ना होगा तब हमें सच पता चल पाएगा।” रोबोट ने अपने असिस्टेंट को बताया।

इसके बाद दोनों लियो को ढूंढने के काम में जुट गए। ऑस्कर के पास बहुत सारे खबरी थे जो उसे हर एक तरह की खबर दे दिया करते थे। वह अपने खबरी के पास गया और उन्हे लियो के बारे में बताया। 3 दिन बाद लियो का पता मिल गया। उसे यह खबर उसके खबरी ने दी थी।

लियो ओलिविया होटल के 232 रूम में छुपा हुआ था। उसने लियो को होटल के रूम से पकड़ लिया और उसे पुलिस के पास ले गया। पुलिस के पास ले जाकर उसे जेल में बंद कर दिया गया। जेल में उसे अच्छे से पूछताछ की गई तब उसने बताया कि रोबोट की हत्या करने के लिए उसे पैसे मिले थे और रॉबर्ट की हत्या उसके दोस्त जॉन ने करवाई थी।

यह खबर मिलते ही पुलिस ने जॉन को भी पकड़ लिया और फिर उससे पूछा गया कि उसने अपने दोस्त की हत्या क्यों कराई। उसने बताया, “रॉबर्ट मेरा एक अच्छा दोस्त था लेकिन बिजनेस में वहां मुझसे आगे था। वह मुझसे ज्यादा पैसे कमा रहा था क्योंकि कंपनी के ज्यादा शेयर उसके पास थे। एक दिन मैंने उसे कहा कि हम दोनों कंपनी के शेयर बराबर-बराबर बाँट लेते हैं इससे हमारी कमाई बराबर हो जाएगी। क्योंकि हम दोनों ने इस कंपनी में एक साथ काम शुरू किया था। उसने ऐसा करने से मना कर दिया और इस वजह से मैंने उसकी हत्या करवा दी।”

लियो ने यह भी बताया कि उसने रोबोट की हत्या कैसे की थी। वह बोला, “एक दिन जब मैं पेंट कर रहा था तब मैंने देखा कि बाकी के दो पेंटर खाना खाने गए थे। तब मौका देखकर मैं सीढ़ियों से चढ़कर खिड़की को खोला और उसके कमरे में घुस गया। मुझे जॉन ने जिस तरह से बताया था उसी तरह से मैंने रोबर्ट की दवाइयां बदल दी। उन दवाइयों को खाकर उसे हार्ट अटैक आ गया। इस तरह से उसकी मौत हो गई।

सच के सामने आते ही जॉन को पुलिस ने जेल के अंदर डाल दिया अब उसे जिंदगी भर जेल में सड़ना पड़ेगा।

खूनी की खोज

किडनेपर कौन?

असली चोर कौन

हमें कमेंट में यह भी बताए की क्या आपने भी ऐसा कोई जासूसी वाला काम किया है? Detective and Suspense Stories for Kids In Hindi.

Read More Stories in Hindi

Lily And The God – Story For Kids’ Bedtime

The Little King – Story For Kids’ Bedtime

Story For Kids’ Bedtime Aladdin And His Magic Lamp Story

Dojo And The 7 Wonders – Story For Kids’ Bedtime

New Bedtime Stories Of Princess In Hindi

Stories in Hindi

10+ Short Story For Kids In Hindi – Bacchon Ki Kahaniyan

ड़ोजो और 7 अजुबें – Story For Kids In Hindi

अलादीन का जादुई चिराग-Story For Kids In Hindi

लिली और भगवान-Story For Kids In Hindi

छोटा राजा -Story For Kids In Hindi

Princess Story in Hindi