छोटा राजा -Story For Kids in Hindi

एक समय की बात है दूर एक देश में चिंटु नाम का एक लड़का रहता था और वह अपने माता-पिता से खुब प्यार करता था। चिंटु बहुत ही अच्छा लड़का था और इसी वजह से सब उसे खुब पसंद करते थे। लेकिन चिंटू जिस देश मे रहता था वहाँ का राजा बहुत ही क्रुर था। वहाँ के राजा से सब डरा करते थे ।

छोटा राजा -Story For Kids in Hindi
छोटा राजा -Story For Kids in Hindi

चिंटू रोज़ अपने आस-पास देखता की राजा के सेनिक लोगो को बेवजह तंग किया करते थे। ऐसे मे वह अपने पापा से पूछता, ” पिताजी ये लोग हमेशा दूसरों को तंग करते है। इन्हे रोकने वाला कोई नहीं है क्या?”

पिताजी उस वक़्त अपने कार्य मे व्यस्थ थे इस वजह से उन्होनें चिंटू से कहा, “चिटु, देख नहीं रहे हो बेटा मैं अभी काम कर रहा हूँ। चलो जाओ अभी हम बाद मे बात करेंगे।” ऐसा कहकर पिताजी ने चिंटू का जवाब नहीं दिया।

छोटा राजा -Story For Kids in Hindi
छोटा राजा -Story For Kids in Hindi

लेकिन चिंटू तो ठहरा जिज्ञासु लड़का अगर उसे कुछ जानना हो तो वह कुछ भी करके जान ही लेता। ऐसे में वह अपनी माँ के पास गया और माँ से वही सवाल पुछा, ” माँ ये लोग हमेशा दूसरों को तंग करते है। इन्हे रोकने वाला कोई नहीं है क्या?”

माँ ने अपने प्यारे से चिंटू की ओर देखा ओर कहा, “इन्हे सिर्फ एक आदमी ही ऐसा करने से रोक सकता है।”

“और वो कौन है माँ? बताईये ना जल्दी बताईये।” चिंटू ने कहा।

माँ बोली, ” अरे मेरे लाल इतनी भी क्या जल्दी है? क्या करोगे जान कर?”

“आप बताईये ना मुझे जानना है।” चिंटू ने माँ से कहा।

माँ ने जवाब देते हुए कहा, “वो राजा है बेटा। ये सारें सेनिक उन्हीं के है और वही इन्हें रोक सकते है।”

चिंटू ने फिर सवाल पुछा, “तो वो इन्हें ऐसा करने से रोकते क्यो नही?”

माँ ने जवाब में कहा, “क्योंकि हमारे राजा अच्छे राजा नही है। वो लोगो को खुब परेशान करते है ओर जो मील जाए उसे सज़ा सुना देते है।”

ऐसे में चिंटू ने कहा, “माँ मैं इन सेनिको से लडूंगा और सबकी राजा से रखवाली करूंगा।”

माँ हस्ते हुए बोली, ” तुम तो बहुत छोटे हो, तुम्हारे पास कोई सेना भी नही है और ना ही तुम्हारे पास कोई जादुई ताकत है। तो फिर तुम कैसे राजा से लड़ोगे?”

माँ की ऐसी बातें सुन कर चिंटू निराश हो गया और मन ही मन सोचने लगा की ऐसा क्या है जो मैं कर सकता हूँ?

अब रात का समय हो चला था और चिटु के मन से वह बात घर कर चुकी थी। चिंटू सोते-सोते एक ही बात सोच रहा था की आखिर कैसे मैं राजा से लड़ सकता हूँ। यह सोचते-सोचते वह भगवान से विनती किया और कहा की हे भगवान मुझे सकती दो की मैं राजा को हरा कर देश के लोगो की रक्षा कर सकूँ।

नींद में चिंटू को एक सपना आया। सपने में एक परी आई और उसने चिंटू से कहा, “चिटु तुम्हारी प्रार्थना भगवान ने सुन ली है और उन्होनें तुम्हें राजा से लड़ने के लिए ये तलवार दिया है। जबतक तुम्हारे पास यह तलवार है तुम्हारी ताकत बढ़ जायेगी ओर तुम्हारा कोई कुछ नहीं कर पायेगा।” यह कहकर परी चली गई।

चिंटू की सुबह नींद खुली और उठते ही उसने सबसे पहले अपना पुरा घर खोजा। वह अपने घर का एक-एक कोना खोजने लगा लेकिन उसे वह तलवार कही ना मिली। ऐसे मे थक हार कर चिटु अपने बिस्तर में जा बैठा। बैठे-बैठे वह सोचने लगा, “क्या वह बस एक सपना था या ऐसा सचमें हुआ था?”

अचानक चिंटू को याद आया की घर में ऐसी बस ऐसी एक जगह बची है जहाँ उसने अभीतक नहीं देखा है ओर वह था बिस्तर के नीचे। उसने तुरंत अपने बिस्तर के नीचे झुककर देखा और उसे वहाँ एक चमकिला तलवार मिला। तलवार को देखते ही वह उसे तुरंत बाहर निकाला।

उस तलवार की चमक अन्य सभी तलवरो से अधिक थी और ओर तलवार दिखने में जादुई लग रही थी जैसा की परी ने उसे कहा था।

अब चिंटू तलवार को हाथ में लिए राजा के महल की ओर चल पडा। चिटु की हाथ मे वह तलवार देख सब चौक गए ओर सब चिंटू के पीछे-पीछे राजा के महल की ओर जाने लगे।

जैसे ही चिंटू महल के दरवाजे की ओर पहुचा तो महल के 3 सिपाहियो ने उसे रोकने की कोशिश लेकिन उस तलवार की वजह से कोई भी चिंटू के सामने नही टिक पाया। अब चिटु महल के अन्दर जा पहुचा ओर राजा को सीधा चुनौती दिया।

छोटा राजा -Story For Kids in Hindi
छोटा राजा -Story For Kids in Hindi

एक छोटे बच्चे को अपने सामने देख राजा हसने लगा ओर कहा, “बच्चे ये उम्र तुम्हारे खेलने की है चलो जाओ और तलवार यही छोड दो।”

यह सुनकर चिंटू ने राजा पर सिधे हमला किया और दोनों के बीच लड़ाई चालू हो गई। दोनों के बीच की वह लड़ाई सरि जनता खड़े होकर देख रही थी। सबने देखा की चिंटू एक छोटा बच्चा कितनी बहादुरी से राजा से लड़ रहा है। और अन्त में उस तलवार ने अपना कमाल दिखाया और चिंटू ने उस राजा को हरा दिया ।

अब उस देश का राजा चिटु बन चुका था। चिंटू से राजा ओर उसके सेनिको को कड़ी सजा दि। अब सब चिंटू के देश में खुश रहने लगे और चिंटू खुसी-खुसी अपने देश में राज करने लगा।